जीत कर हारी टीम इंडिया, यहां हुई गलती…

मैनचेस्टर में न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मुकाबले में 18 रन से हारकर टीम इंडिया की वर्ल्ड कप जीतने की उम्मीदें खत्म हो गई हैं. टूर्नामेंट जीतने की प्रबल दावेदार रही टीम इंडिया की वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में लगातार दूसरी हार है. इससे पहले 2015 के वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया ने सेमीफाइनल में हराकर टीम इंडिया के चैंपियन बनने के सपने को तोड़ा था. टीम इंडिया के अगर हाल के प्रदर्शन को देखें तो वो आईसीसी टूर्नामेंट्स के बड़े मैचों को जीतने में नाकाम रही है.

India’s captain Virat Kohli , left, leads his team off the pitch after the ICC Champions Trophy match between India and Sri Lanka at The Oval cricket ground in London, Thursday, June 8, 2017. Sri Lanka won the match by 7 wickets. (AP Photo/Kirsty Wigglesworth)

इससे पहले भारतीय टीम 2017 में आईसीसी चैंपियन्स ट्रॉफी के फाइनल में पहुंच तो जरूर गई थी, लेकिन खिताबी भिड़ंत में भारतीय खिलाड़ी एक बार फिर नाकाम रहे और पाकिस्तान के खिलाफ 180 रनों से हार मिली. ऐसे में बड़े मैचों में टीम इंडिया के प्रदर्शन पर सवाल उठने लगे हैं और चोकर्स शब्द जो कभी दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड जैसी टीमों के लिए इस्तेमाल होता था उसी श्रेणी में टीम इंडिया भी आ गई है.

Pune: Indian players M.S.Dhoni and Dinesh Kartik celebrate their victory against New Zealand during the second ODI cricket match played in Pune on Wednesday. PTI Photo by Shashank Parade(PTI10_25_2017_000259a)

दरअसल, चोकर्स आम तौर पर ‘चोक’ शब्द से बना है, जिसका मतलब है अहम मौकों पर अटक जाना या रुक जाना. जो सभी काम को अच्छे से अंजाम दे लेकिन अहम मौके पर अपने प्रदर्शन को कायम ना रख पाए, अब यह चाहे दबाव में हो या फिर परिस्थिति की वजह से. टीम इंडिया के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है. पूरे टूर्नामेंट में उसका प्रदर्शन दमदार रहता है, लेकिन अहम मौके पर खिलाड़ी चूक जाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *